वृन्दावन धाम - Vrindavan Dham

एक बार अयोध्या, दो बार द्वारिका, तीन बार जाके त्रिवेणी में नहाओगे ।
चार बार चित्रकूट, नौ बार नासिक, बार बार जाके बद्रीनाथ घूम आओगे॥
कोटि बार काशी, केदारनाथ, रामेश्वर, गया, जगन्नाथ, चाहे जहाँ जाओगे।
होते है दर्शन, प्रत्यक्ष यहाँ बिहारी जी के, वृन्दावन सा आनंद कहीं नहीं पाओगे॥